कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

गोवा विधानसभा: 4 नवनिर्वाचित विधायकों के शपथ लेने के साथ ही कुल 40 विधानसभा सदस्य

नयी व्यवस्था में भाजपा 17 विधायकों के साथ अकेली सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है.

गोवा में चार नवनिर्वाचित विधायकों के शपथ लेने के साथ ही राज्य विधानसभा की सदस्य संख्या 40 हो गई है जो कि सदन की मूल संख्या है.

नयी व्यवस्था में भाजपा 17 विधायकों के साथ अकेली सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है, जबकि 2017 में स्थिति बिल्कुल उलट थी. तब विधानसभा चुनाव में भगवा दल ने 13 और कांग्रेस ने 17 सीट जीती थीं.

कार्यवाहक अध्यक्ष माइकल लोबो ने नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ दिलाई. इनमें से तीन विधायक … सुभाष शिरोडकर, दयानंद सोप्ते और जोशुआ डी’सिल्वा भाजपा के तथा अतानासियो मोन्सेरेटे कांग्रेस के हैं. ये सभी राज्य की चार सीटों पर हुए उपचुनाव में निर्वाचित हुए हैं.

शिरोडकर और सोप्ते पिछले साल भाजपा में शामिल हो गए थे जिसकी वजह से क्रमश: शेरोडा और मन्द्रेम विधानसभा सीटों पर उपचुनाव कराया गया.

पणजी सीट विधायक एवं मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन और मापुसा सीट विधायक एवं पूर्व उप मुख्यमंत्री फ्रांसिस डी’सूजा के निधन के कारण रिक्त हुई थी.

मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत सहित कई गणमान्य हस्तियों ने विधानसभा परिसर में संपन्न शपथग्रहण समारोह में हिस्सा लिया.

गोवा विधानसभा में सत्तारूढ़ भाजपा के 17 विधायक हैं. इनमें तीन नवनिर्वाचित विधायक और 2017 के चुनाव परिणाम के बाद कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए विश्वजीत राणे भी शामिल हैं.

सदन में कांग्रेस के 15 सदस्य हैं.

भाजपा की सहयोगी गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के विधायकों की संख्या तीन है और गठबंधन की एक अन्य घटक महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी का एक विधायक है. राकांपा का भी एक विधायक है. शेष तीन विधायक निर्दलीय हैं.

प्रमोद सावंत सरकार को जीएफपी, एमजीपी और निर्दलीयों का समर्थन प्राप्त है.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+