कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के एक्सिडेंट पर सवाल पूछना छात्रा को पड़ा भारी, परिजनों ने डरकर स्कूल भेजना किया बंद

छात्रा ने पुलिस से सवाल किया था कि किसी की शिकायत करने पर ट्रक से उड़ा दिया जाएगा तो पुलिस कैसे मदद करेगी?

उन्नाव गैंगरेप कांड पर पुलिस अधिकारियों से महिला सुरक्षा को लेकर सवाल पूछने वाली 11वीं कक्षा की छात्रा का स्कूल जाना बंद हो गया है. छात्रा द्वारा सवाल पूछने के बाद उसके परिजन इतना डर गए हैं कि उन्होंने छात्रा को स्कूल भेजना बंद कर दिया है.

पत्रिका की ख़बर के मुताबिक इस मामले को लेकर छात्रा के पिता ने कहा, “मेरी बेटी अभी छोटी और नादान है. उसने जो अखबारों में पढ़ा और टीवी पर देखा वह बोल दिया. इसके लिए उसके साथी बच्चों ने भी उसे प्रोत्साहित किया.” परिजनों का कहना है कि वे सोमवार को स्कूल के प्रिंसिपल से मुलाकात करके तय करेंगे कि छात्रा को दोबारा स्कूल कब से भेजना है.

बता दें कि बीते गुरुवार को बाराबंकी पुलिस बालिका सुरक्षा जागरूकता अभियान कार्यक्रम के तहत आनंद भवन स्कूल पहुंची थी. वहां एसपी राम सेवल गौतम ने छात्राओं को बताया कि अगर उन्हें कोई परेशान करता है वे तुंरत टोल फ्री नंबर पर कॉल करके उस व्यक्ति की शिकायत करें.

पुलिस की इस बात पर 11वीं की छात्रा ने सवाल किया कि अगर हम जिसकी शिकायत कर रहे हैं उसे इस बात का पता चल गया और उसने एक्सिडेंट करवा दिया, तो क्या होगा? पुलिस कैसे मदद करेगी? क्या विरोध करने पर न्याय मिलेगा?

छात्रा के सवाल पर पुलिस अधिकारी ने चुप्पी साध ली थी. लेकिन छात्रा के सवालों का विडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो गया. जिसके बाद उसके माता-पिता भय के कारण अपनी बेटी को स्कूल नहीं भेज रहे हैं.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+