कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

उत्तर प्रदेश में अब डकैती कर रही पुलिस, 13 पुलिसकर्मियों पर डकैती का मुक़दमा दर्ज़

आरोप है कि कपड़ा धोने वाले एक शख़्स ने बुलंदशहर पुलिस से जब बकाये की मांग की तो पुलिस ने उसे झूठे मुकदमे में फंसाकर उसकी संपत्ति लूट ली।

उत्तर प्रदेश पुलिस इन दिनों अपने कारनामे की वज़ह से लगातार चर्चा में है। कभी फ़र्ज़ी मुठभेड़ तो कभी कानून को हाथ में लेने के कारण वह चर्चा में बनी हुई है। ताज़ा विवाद में राज्य की पुलिस पर डकैती का आरोप लगा है। आरोप है कि कपड़ा धोने वाले एक शख़्स ने बुलंदशहर पुलिस से जब बकाये की मांग की तो पुलिस ने उसे झूठे मुकदमे में फंसाकर उसकी संपत्ति लूट ली। कोर्ट के निर्देश पर 13 पुलिसकर्मियों के ऊपर डकैती का मुक़दमा दर्ज़ कराया गया है।

जनसत्ता की रिपोर्ट के मुताबिक बीते 8 सितंबर को 15 पुलिसकर्मी सादे कपड़ों में मुश्तकीम के घर पहुंचे। पहले पुलिस ने उन्हें नारकोटिक्स और अवैध हथियारों की खरीद करने का आरोप लगाकर गिरफ़्तार कर लिया। इसके बाद छापामारी कर घर से 2 मोटरसाइकिल और 84,000 रुपये कैश अपने साथ लेकर चले गए।

पुलिस द्वारा मुश्तकीम के घर पर की गई छापेमारी पास के एक बैंक के सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। इस सीसीटीवी फ़ुटेज में पुलिसकर्मियों को कपड़़े में पैसे बांधकर ले जाते हुए देखा जा सकता है।

बुलंदशहर के अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के आदेश पर 13 पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ डकैती का मामला दर्ज किया गया है। पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 395 के तहत एफ़आईआर दर्ज की गई है। आरोपी पुलिसकर्मियों में 5 सब-इंस्पेक्टर भी शामिल हैं। ये सभी पुलिसकर्मी खुर्जा पुलिस स्टेशन पर तैनात हैं।

मुश्तकीम की मां का कहना है कि पुलिस ने उनके बेटे के साथ मारपीट की। मुश्तकीम की पत्नी अफसाना का कहना है कि यह सब इसलिए किया गया क्योंकि, मुश्तकीम पुलिसकर्मियों के कपड़े धोता है और पुलिसकर्मियों पर उनका कई महीनों का बकाया था। बकाया राशि को लेकर मुश्तकीम की एक पुलिसकर्मी के साथ बहस भी हुई थी, शायद इसीलिए पुलिसकर्मियों ने उन्हें निशाना बनाया।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+