कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

योगी राज में पुलिस का क्रूरतम चेहरा: संदिग्ध समझ कर युवक को मारी गोली, इलाज के दौरान मौत

मृतक की पत्नी ने कहा "पुलिस को कोई अधिकार नहीं कि वो मेरे पति को गोली मारे। यूपी के सीएम यहां आए और मुझसे बात करें।"

एनकाउंटर को लेकर आलोचना झेल रही उत्तर प्रदेश पुलिस का एकबार फिर क्रूर चेहरा सामने आया है। ताज़ा मामला सूबे की राजधानी लखनऊ का है जहां पुलिस ने संदिग्ध समझ कर एक युवक को गोली मार दी। अस्पताल में देर रात युवक की मौत हो गई। मृतक की पहचान एप्पल कंपनी के एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी के रूप में हुई है।

गौरतलब है कि यह घटना देर रात शनिवार की है। विवेक तिवारी अपनी महिला मित्र के साथ एसयूवी गाड़ी चला रहे थे। पुलिस का कहना है कि चेकिंग के दौरान उन्होंने गाड़ी रोकने के लिए कहा, लेकिन विवेक ने गाड़ी नहीं रोकी। इसकी वजह से पुलिस ने आत्मरक्षा में गोली चलाई।

वहीं मृतक की पत्नी का कहना है कि “पुलिस को कोई अधिकार नहीं कि वो मेरे पति को गोली मारे। यूपी के सीएम यहां आए और मुझसे बात करें।”

फिलहाल महिला साथी सना की शिकायत पर धारा 302 मामला दर्ज कर लिया गया है। पुलिस द्वारा दोनों सिपाहियों प्रशांत और संदीप को हिरासत में लेकर पुछताछ कर रही है।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+