कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

हास्यप्रद: उत्तर प्रदेश में एक्सप्रेस ट्रेनें दौड़ रही हैं मोदी के बुलेट ट्रेन से भी तेज़

बुलेट ट्रेन जहां 320 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ेंगी वहीं हमारी एक्सप्रेस ट्रेनें पहले से ही 403 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ रही हैं।

भारतीय रेल के डाटा के मुताबिक़ एक्सप्रेस ट्रेनें देश में अपने शुभारम्भ के लिए इंतज़ार कर रही बुलेट ट्रेनों से भी ज़्यादा तेज़ दौड़ रही हैं। एक ओर जहां तेज़ बुलेट ट्रेनें 320 कि.मी. प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ेंगे वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश में एक्सप्रेस ट्रेनें 403 कि.मी प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ रही हैं।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार भारतीय रेल इन विसंगतियाँ नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (सीएजी) के द्वारा किये गए एक ऑडिट के बाद सामने आयीं।

सीएजी रिपोर्ट के अनुसार “2016-17 के दौरान, तीन ट्रेनें 354, 343 और 144 दिन चलीं जिसमें तीनों ने फतेहपुर और इलाहाबाद के बीच 116 कि.मी. की दूरी तय करने के लिए 53 मिनट से भी कम का समय लगाया।”

रिपोर्ट में आगे बताया गया, “जुलाई 9, 2016 को इलाहाबाद दुरंतो एक्सप्रेस सुबह 5.53 पर पहुंची और इलाहाबाद 6.10 पर पहुंची जिसका मतलब यह निकलता है कि ट्रेन ने 409 कि.मी. प्रति घंटे की रफ़्तार से 116 कि.मी. की दूरी 17 मिनटों में पूरी की।”

सामान्यतः किसी भी ट्रेन को फतेहपुर से इलाहाबाद की दूरी तय करने के लिए 130 कि.मी. प्रति घंटे की अधिकतम स्वीकार्य गति में भी कम से कम 53 मिनट लगते हैं।

ऑडिट में तीन ट्रेनों के डाटा में बहुत ज़्यादा फेर-बदल मिला है जिनमें हैं – प्रयाग राज एक्सप्रेस, जयपुर-इलाहाबाद एक्सप्रेस और नई दिल्ली-इलाहाबाद दुरंतो एक्सप्रेस।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, यह ग़लत एंट्रियाँ एकीकृत कोचिंग प्रबंधन प्रणाली और राष्ट्रीय रेल पूछताछ प्रणाली में की गयीं थी जिसकी वजह से यात्रिओं को बहुत असुविधा झेलनी पड़ी।

यह डाटा ट्रेनों के वर्त्तमान समय पर हो रहे प्रचालन की निगरानी के लिए उत्तरदायी है। डाटा में अनियमितताओं की वजह से ट्रेनों के आगमन का समय ग़लत दिखाया गया है।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+