कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

आहत योगी: उत्तर प्रदेश के CM अजय सिंह बिष्ट के ऊपर कथित “आपत्तिजनक” पोस्ट के लिए दो अन्य गिरफ़्तार

योगी आदित्यनाथ पर पोस्ट शेयर करने संबंधी सभी मुक़दमे गोरखपुर, बस्ती, फ़तेहपुर और संत कबीर नगर थाने में दर्ज कराए गए हैं.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अजय सिंह बिष्ट उर्फ योगी आदित्यनाथ पर कथित तौर पर आपत्तिजनक पोस्ट सोशल मीडिया पर शेयर करने के कारण दो लोगों को गिरफ़्तार किया गया है. इन लोगों ने एक महिला का विडियो शेयर किया था, जिसने दावा किया था कि योगी आदित्यनाथ उससे विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिए बात करते हैं और अब वह उनसे शादी की बात करना चाहती है.

इससे पहले उत्तर प्रदेश पुलिस ने पत्रकार प्रशांत कन्नौजिया, अनुज शुक्ला और इशिका सिंह को इसी मामले में गिरफ़्तार किया था. अनुज शुक्ला और इशिका सिंह नेशन लाइव नामक एक टीवी चैनल चला रहे थे, जिस पर योगी आदित्यनाथ के बारे में महिला के आरोपों का प्रसारण किया गया था.

द प्रिंट में अदिति वत्स की रिपोर्ट के मुताबिक योगी आदित्यनाथ पर पोस्ट शेयर करने संबंधी सभी मुक़दमे गोरखपुर, बस्ती, फ़तेहपुर और संत कबीर नगर थाने में दर्ज कराए गए हैं.

जिन नए दो लोगों को गिरफ़्तार किया गया है उसमें एक ग्राम प्रधान शामिल है. बस्ती जिले बाशकोर कला गांव के प्रधान अखलाक अहमद ने स्थानीय पुलिस अधिकारियों के व्हाट्सऐप ग्रुप में एक योगी आदित्यनाथ की शादी का निमंत्रण पत्र साझा कर दिया था. आईपीसी की धारा 505 के तहत उनपर मुक़दमा दर्ज किया गया है. द प्रिंट  के मुताबिक रुधौली पुलिस थाने के एसएचओ अशोक कुमार वर्मा का कहना है, “उसने व्हाट्सऐप मैसेज में कुछ नहीं लिखा था, लेकिन निमंत्रण पत्र शेयर किया था. उसे 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.”

इसी प्रकार गोरखपुर के गोला गांव के पीर मोहम्मद नाम के किसान ने एक पोस्ट शेयर किया था. जिसमें योगी आदित्यनाथ की शादी का निमंत्रण पत्र शेयर करते हुए पीर मोहम्मद ने लिखा था कि योगी आदित्यनाथ की शादी में डीजे बजेगा या भजन. गोरखपुर पुलिस का कहना है कि उन्हें बीते रविवार को शाम सात बजे इसकी जानकारी मिली फिर मुक़दमा दर्ज किया गया. फिलहाल आरोपी को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.

इसके साथ ही गोरखपुर पुलिस ने पीर मोहम्मद के एक अन्य फ़ेसबुक फ्रेंड धर्मेन्द्र भारती पर भी मुक़दमा दर्ज किया है. धर्मेन्द्र भारती बस इस पोस्ट में टैग किए गए थे, इसीलिए उन्हें गिरफ़्तार कर  लिया गया. पुलिस ने उनपर आईपीसी की धारा 503,505 और आईटी एक्ट की धारा 65 और 66 लगाया है.

दो अन्य लोगों पर भी दर्ज हुआ है मुक़दमा

द प्रिंट  की रिपोर्ट के मुताबिक फ़तेहपुर के निवासी राजू सिंह यादव के ऊपर भी मुक़दमा दर्ज किया गया है. राजू सिंह यादव फिलहाल मुंबई में रहते हैं और उन्होंने योगी आदित्यनाथ की शादी का फ़र्जी निमंत्रण पत्र फ़ेसबुक पर शेयर किया था. उनके ऊपर एक स्थानीय पत्रकार ने यह शिकायत दर्ज कराई है. इस शिकायत में कहा गया है कि राजू सिंह यादव ने कुछ “आपत्तिजनक” शब्दों के साथ योगी आदित्यनाथ की शादी का नकली कार्ड शेयर किया था.

संत कबीर नगर के एक अन्य व्यक्ति के ख़िलाफ़ भी इसी तरह का मुक़दमा दर्ज किया गया है. हालांकि इस मामले में अभी गिरफ़्तारी नहीं हुई है.

क्या है मामला

दरअसल, बीते हफ़्ते एक महिला ने कुछ मीडिया चैनलों के साथ प्रेस कॉन्फ़्रेंस किया था. इसमें महिला ने दावा किया था कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उसकी बातचीत काफी पहले से होती है और विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिए मुख्यमंत्री  उससे बातें किया करते हैं. महिला ने कहा था कि वह इसी सिलसिले में मुख्यमंत्री योगी से मिलकर अपने रिश्ते को लेकर बात करना चाहती है. इस विडियो के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर यह खूब वायरल हुआ. द वायर के पूर्व पत्रकार प्रशांत कन्नौजिया ने एक व्यंग्यात्मक कैप्शन के साथ इसी विडियो को सोशल मीडिया पर साझा किया था, जिसके कारण उत्तर प्रदेश पुलिस ने उन्हें दिल्ली से गिरफ़्तार कर लिया.

समाचार चैनल नेशन लाइव ने इस पर एक चर्चा का कार्यक्रम आयोजित किया था, जिसके कारण उसके मालिक और संपादक को उत्तर प्रदेश पुलिस ने गिरफ़्तार किया है. हालांकि इस चैनल पर यह भी आरोप है कि वह ग़ैर कानूनी तरीके से चलाया जा रहा था.

प्रशांत कन्नौजिया व अन्य पत्रकारों की गिरफ़्तारी के ख़िलाफ़ सोमवार को दिल्ली के प्रेस क्लब ऑफ इंडिया से संसद भवन तक मार्च निकाला गया था. इसमें देश के जाने माने बुद्धिजीवी और पत्रकार शामिल हुए थे. इधर एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने प्रशांत कन्नौजिया सहित अन्य पत्रकारों की गिरफ़्तारी की निंदा की है

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+