कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

आरबीआई: डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने कार्यकाल पूरा होने से पहले ही दिया इस्तीफा

दिसंबर 2016 में विरल आचार्य को आरबीआई के डिप्टी गवर्नर के पद पर नियुक्त किया गया था.

भारतीय रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अपना कार्यकाल पूरा होने से छह महीने पहले ही इस्तीफा दे दिया है. कुछ हफ्ते पहले ही विरल आचार्या ने पत्र लिखकर सूचित किया था. निजी कारणों का हवाला देते हुए उन्होंने 23 जुलाई के बाद इस पद पर नहीं रहने की बात कही थी.

उर्जित पटेल को आरबीआई गवर्नर बनाऐ  जाने के बाद दिसंबर 2016 में विरल आचार्या को आरबीआई के डिप्टी गवर्नर के पद पर नियुक्त किया गया था. बता दें कि आरबीआई की स्वायत्तता समेत अन्य मुद्दों पर सरकार के बढ़ते मतभेदों के बीच उर्जित पटेल ने दिसंबर 2018 में गवर्नर पद से इस्तिफा दे दिया था.

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक आचार्य न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी स्टर्न स्कूल ऑफ बिजनेस इसी साल अगस्त में लौट रहे हैं, जबकि वह वहां अगले साल फरवरी में जाने वाले थे. इस इस्तीफे को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक बीते कुछ महीनों से डिप्‍टी गवर्नर विरल आचार्य आरबीआई के नए गवर्नर शक्‍तिकांत दास के फैसलों से अलग विचार रख रहे थे. हाल ही की मॉनीटरिंग पॉलिसी बैठक के दौरान राजकोषीय घाटे को लेकर भी विरल आचार्य ने गवर्नर शक्‍तिकांत दास के विचारों पर सहमति नहीं जताई थी.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+