कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

बच्चा चोरी की अफवाहों को बढ़ावा देते हुए पिता-पुत्र का वीडियो वायरल

ऑल्ट न्यूज़ की जांच.

सोशल मीडिया में एक वीडियो प्रसारित किया जा रहा है, जिसमें एक व्यक्ति बच्चे के साथ खड़े होकर अपहरण के प्रयास की पूरी घटना के बारे में विवरण दे रहे हैं। इस वीडियो को सोशल मीडिया में बच्चा चोरी करने वाले गिरोह के संदेश के साथ साझा किया जा रहा है। वीडियो के साथ किए गए दावे में कहा गया है कि हिमाचल प्रदेश के लारेंकेलो में अंग व्यापारियों के एक गुट को गिरफ्तार किया गया था। संदेश के मुताबिक, गिरफ्तार किए गए सदस्य ने बताया है कि वे तक़रीबन 500 लोगों का समूह हैं और वे 15-20 लोगों के छोटे समूह में विभाजित है, इस ग्रुप में महिलाए और बच्चे भी शामिल है। संदेश में आगे कहा गया है कि आधी रात को अगर बच्चे के रोने की आवाज़ सुनाई दे तो दरवाज़ा मत खोलें। संदेश में कुछ शहरों को अलर्ट करने का प्रयास किया गया है – जिसमें हरियाणा के अम्बाला, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र करनाल और पानीपत शामिल है। ऑल्ट न्यूज़ को अपने अधिकृत व्हाट्सअप नंबर पर इस वीडियो की पड़ताल करने के लिए भेजा गया है।

वीडियो के साथ मुख्य रूप साझा किये गए संदेश के मुताबिक,“अलर्ट Ambala, Yamunanagar, kurukshetra, Karnal, Panipat ख़ासकर घरेलू महिलाओं से अनुरोध है किसी भी अजनबी जैसे कबाड़ी वाला फेरी वाला बाबा या कोई भिखारी कोई भी हो उसके लिए दरवाज़ा ना खोले ना ही कोई बात करे बस हल्ला करके भगा दें। ग़लती से भी ये शब्द ना कहे । “अभी घर में कोई नही है बाद में आना या चले जाओ “ घर में अगर कुत्ता है तो उसे खोल दो उसी टाइम और मेन गेट मत खोलो। अपना और अपने बच्चे का ध्यान रखिए । सतर्क रहें। सुरक्षित रहें । Larankello से आज खबर मिली है की भिखारी के बेस में पांच सौ लोग निकले है जो रास्ते में जो मिलता है उसको काटकर कलेजे अौर कीडनी निकाल रहे है जिसमे से छः सात लोग पकड़े गाए है .जो पकडे़ गए हैं वही लोग को कडी़ पुछताच के बाद पांच सौ लोग आने की बात कबुल की है इसलिए हमारे भाईयों मेसेज को आपके जितने परिवार और मेंबर है सबको फाॅरवर्ड कीजिए: कृप्या सावधान रहे 15 से 20 लोगों की टोली आई है उनके साथ बच्चे और महीलांए हैं और उनके पास हथियार भी हैं और और आधी रात को किसी भी वक्त आते हैं और बच्चे के रोने की आवाज आती है कृपया दरवाजा ना खोले प्लीज ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में से शेयर करें पूरे एरिया में 2 से 3 दिन के अंदर फेल जाना चाहिए। अपनी सूरक्षा अपने हाथ, सावधान रहे, जनहित मे जारी”

एक फेसबुक उपयोगकर्ता ने समान दावे से वीडियो को पोस्ट किया है।

अलर्ट Ambala, Yamunanagar, kurukshetra, Karnal, Panipatख़ासकर घरेलू महिलाओं से अनुरोध है किसी भी अजनबी जैसे कबाड़ी वाला फेरी वाला बाबा या कोई भिखारी कोई भी हो उसके लिए दरवाज़ा ना खोलेना ही कोई बात करे बस हल्ला करके भगा दें। ग़लती से भी ये शब्द ना कहे ।“अभी घर में कोई नही है बाद में आना या चले जाओ “घर में अगर कुत्ता है तो उसे खोल दो उसी टाइम और मेन गेट मत खोलो ।अपना और अपने बच्चे का ध्यान रखिए । सतर्क रहें। सुरक्षित रहें । Larankello से आज खबर मिली है की भिखारी के बेस में पांच सौ लोग निकले है जो रास्ते में जो मिलता है उसको काटकर कलेजे अौर कीडनी निकाल रहे है जिसमे से छः सात लोग पकड़े गाए है .जो पकडे़ गए हैं वही लोग को कडी़ पुछताच के बाद पांच सौ लोग आने की बात कबुल की है इसलिए हमारे भाईयों मेसेज को आपके जितने परिवार और मेंबर है सबको फाॅरवर्ड कीजिए: कृप्या सावधान रहे 15 से 20 लोगों की टोली आई है उनके साथ बच्चे और महीलांए हैं और उनके पास हथियार भी हैं और और आधी रात को किसी भी वक्त आते हैं और बच्चे के रोने की आवाज आती है कृपया दरवाजा ना खोले प्लीज ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में से शेयर करें पूरे एरिया में 2 से 3 दिन के अंदर फेल जाना चाहिए। अपनी सूरक्षा अपने हाथ, सावधान रहे, जनहित मे जारी🙏🏼

Posted by K.S. Tyagi on Thursday, July 25, 2019

वीडियो में, बच्चे के पिता होने का दावा करने वाले व्यक्ति बताते हैं कि उनके बच्चे को अगवा करने की कोशिश की गई थी। बच्चे के पिता को कहते हुए सुना जा सकता है कि,“सभी को इस घटना के बारे में पता चलना चाहिए। आज मेरे साथ ऐसा हुआ है। पुलिस अधिकारी भी निरीक्षण के लिए आए हैं। कृपया इसे साझा करें, तो किसी के भी बच्चे के साथ ऐसी दुर्घटना ना हो। ऐसी घटना मेरे साथ हुई है लेकिन मेरा बच्चा सुरक्षित है। धन्यवाद !”

इस वीडियो के पुरे संस्करण को सोशल मीडिया में इस दावे से साझा किया जा रहा है कि रोहिंग्या मुस्लिमों का करीब 500 से 2000 लोगों का एक समूह है। संदेश को पुलिस के हवाले से साझा किया जा रहा है, जिसके मुताबिक कहा गया है कि,”भोपाल पुलिस सिटी के पुलिस अधीक्षक [C.S.P]”

तथ्य जांच

ऑल्ट न्यूज़ ने इनविड का इस्तेमाल करके इन वीडियो को कई की-फ्रेम्स में तोड़ा, उनमें से एक की-फ्रेम का हमने रिवर्स सर्च किया, जिससे हमें पता चला कि इस वीडियो को पहले भी अपलोड किया गया है। 19 जुलाई, 2019 को यूट्यूब उपयोगकर्ता मयूर सुरतवाला ने इस वीडियो को अपलोड किया है। इस उपयोगकर्ता ने इसी घटना का एक अन्य वीडियो भी अपलोड किया है।

उपरोक्त वीडियो में, एक व्यक्ति को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि यह बच्चा “इंडस रियल्टी” से है। वे आगे बताते हैं कि यह बच्चा ओरिएंटल स्कूल में पढ़ता है। गूगल पर “इंडस रियल्टी” सर्च करने से, हमने पाया कि यह एक आवास परियोजना है जो मध्य प्रदेश के रायसेन जिले के मंडीदीप शहर में है।

ऑल्ट न्यूज़ ने मंडीदीप पुलिस स्टेशन से यह जानने के लिया संपर्क किया कि ऐसी कोई घटना उनके क्षेत्र में हुई थी या नहीं। हमें बताया गया कि वीडियो में दिख रही घटना सतलापुर पुलिस स्टेशन के अधिकार क्षेत्र में से किसी क्षेत्र में हुई है।

हमने सतलापुर पुलिस स्टेशन के अधिकारियों के संपर्क किया। SHO पियूष चार्ल्स ने ऑल्ट न्यूज़ को बताया कि,“यह एक पुरानी घटना है। यह करीब 10-15 दिन पहले हुई थी। हमने बच्चे द्वारा किए गए दावे की पड़ताल की और इसे हमने असंभव पाया। बच्चे ने कहा कि अंधेरे में जब वह अपने घर के पीछे वाली बिल्डिंग के पास से गुज़र रहा था तब उसने किसी को अपने करीब आते हुए महसूस किया। लड़के के मुताबिक, किसी को अपने करीब आते हुए देखा, उसने जैसे ही उसे डराने के लिए अपना बेल्ट निकाला। बच्चे ने दावा किया कि वह व्यक्ति  6 फुट लंबी घेराबंद दीवार कूदकर वहां से भाग गया। हमने उसके दावे की जांच की और हमने पाया कि वहां पर पैरो के निशान मौजूद नहीं थे और उस दीवार को कोई भी व्यक्ति आसानी से पार नहीं कर सकता है। इसके संबंध में कोई भी FIR दर्ज नहीं की गई है क्योंकि यह मुमकिन नहीं था।”

निष्कर्ष के रूप में, मध्यप्रदेश का एक वीडियो जिसमें एक व्यक्ति अपने बच्चे को अगवा करने के प्रयास के बारे में बात कर रहे हैं, इस वीडियो को सोशल मीडिया में बच्चा चोरी की घटनाओं से जोड़कर साझा किया गया ताकि बच्चा चोरी को लेकर लोगों के मन में भय पैदा किया जा सके। यह ध्यान देने योग्य है कि पुलिस के मुताबिक ऐसी कोई घटना नहीं हुई थी। पहले भी, मध्यप्रदेश के रायसेन में मानसिक रूप से बीमार एक व्यक्ति को, लोगों ने बंदी बनाकर उसपर बच्चा चोरी का झूठा आरोप लगाया था। ऑल्ट न्यूज़ ने हाल ही में एक नशे में धुत महिला के वीडियो की पड़ताल की है, जिस पर बच्चे के अपहरण का झूठा आरोप लगाया गया।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+