कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

मध्य प्रदेश में आदिवासी लड़की पर हुए हमले का वीडियो कई गलत दावों से वायरल

ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल.

एक वीडियो, जिसमें मध्यप्रदेश की एक आदिवासी लड़की को दलित लड़के के साथ भागने पर परिवारवालों ने लड़की की पिटाई कर दी। यह वीडियो सोशल मीडिया में कई गलत दावों से वायरल है। यह घटना 25 जून को धार जिले में हुई थी, जिसमें 21 वर्षीय आदिवासी लड़की को एक दलित लड़के के साथ भागने और अपने समुदाय के लड़के से शादी करने से इनकार करने पर उसकी पिटाई कर दी गई।

झूठा दावा 1

“भगवा आतंकवाद”

इस वीडियो के साथ साझा किये गए पहले दावे में इस घटना के लिए “भगवा आतंकवाद” को दोषी ठहराया गया है। इस वीडियो में, एक व्यक्ति को भगवा रंग के गमछे को पहने हुए देखा जा सकता है। वीडियो साझा करते हुए लिखा गया है, “#भगवा_आतंकवाद भाजपा की शान #बेटी_बचाओ_बेटी_पढ़ाओ किस तरह 8-10 लड़के मिलकर एक लड़की को मार रहे हैं ₹50 का भगवा गमछा जिसमे राम लिखा हो गले में डालकर आपको कुछ भी करने की आजादी है यही है @narendramodi का#न्यू_डिजिटल_इंडिया।”

झूठा दावा 2

“हिंदू लड़की को मुस्लिम द्वारा मारा गया”

दूसरे दावे में वीडियो को नफ़रत भरे संदेश के साथ साझा किया गया है। इस घटना को सांप्रदायिक रंग देने के लिए, सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं ने दावा किया कि पीड़ित लड़की हिंदू है। दूसरे दावे में संदेश,“#Share किस तरह 8-10 लड़के मिलकर एक लड़की को मार रहे हैं मुल्लो सुधर जाओ 1 हिन्दू लड़की से बदला लेना वो भी इस तरह से थू हे तेरे धर्म पे भारत में ऐसी घटना हर रोज कहीं न कहीं हो रही है ऐसे लोग इंसान नहीं शैतान है इन्हें गोली मार देनी चाहिए”– साझा किया गया है।

https://www.facebook.com/649640442100660/videos/469511667209604/

 

पुलिस का बयान

इस वीडियो को सोशल मीडिया में व्यापक रूप से साझा किया गया, जिसमें कई लोग इस घटना को उत्तर प्रदेश का मान रहे थे। हालांकि, यह घटना मध्य प्रदेश में हुई थी और इसका संबध ना ही “भगवा आतंकवाद” से है और ना ही मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ।

यूपी पुलिस ने यह स्पष्ट किया कि यह घटना मध्यप्रदेश के धार जिले में हुई थी और पुलिस ने अपराधियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही शुरू कर दी है।

ऑल्ट न्यूज़ से बातचीत क्र दौरान, धार एसपी आदित्य प्रताप सिंह ने सोशल मीडिया के दावों को झुठला दिया। उन्होंने बताया कि,“यह महिला एक अलग समुदाय के लड़के के साथ भाग गई थी। जब वह वापस आयी, तो उसके परिवारवालों ने उसे अपने समुदाय के लड़के से शादी करने के लिए कहा। जब उसनें मना कर दिया, तो उसके परिवारवालों ने उसकी पिटाई कर दी। चार लोगों को इसके लिए गिरफ्तार किया जा चूका है और अन्य तीन लोग गुजरात भाग गए है। उन्हें भी जल्द ही पकड़ लिया जायेगा”।

इस घटना को मुख्यधारा के मीडिया संगठनों द्वारा भी प्रकाशित किया गया है।

यह आम बात है कि सोशल मीडिया पर सच्चाई को गलत तरीके से भड़काऊ संदेश के साथ पेश किया जाता है। कोई भी उत्तेजित करने वाले दावे की विश्वसनीय मीडिया संगठन की रिपोर्ट के माध्यम से पड़ताल की जानी चाहिए।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+